Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

Breaking News:

latest

भारत श्री सम्मान

भारत श्री सम्मान
आप के योगदान को देता है , समुचित सम्मान एवं कार्य क्षेत्रों को देता है नया आयाम। "भारत श्री सम्मान" । आज ही आवेदन करें । कॉल एवं व्हाट्सएप : 9354343835.

CM नीतीश अफसरों पर नाराज! राजगीर पुलिस एकेडमी में काम क्यों नहीं शुरू हुआ, किराए की बिल्डिंग में क्यों चल रहे हैं थाने?

पटना मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने काम में लापरवाही बरतने पर गृह विभाग के अफसरों की जमकर खबर ली। पटना में सुपौल पुलिस लाइन का वर्चुअल उद्धाट...

पटना मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने काम में लापरवाही बरतने पर गृह विभाग के अफसरों की जमकर खबर ली। पटना में सुपौल पुलिस लाइन का वर्चुअल उद्धाटन करते हुए CM नीतीश ने यहां तक कह दिया कि आधे-अधूरे काम का अब हम उद्घाटन नहीं करेंगे। बिहार के सीएम ने कहा कि राजगीर में पुलिस अकेडमी बन रहा है। उसमें लगतार देरी हो रही है। सीएम ने कहा कि हमने 2018 में पुलिस अकेडमी का शिलान्यास किया था, डेवलपमेंट कमिश्नर को ही राजगीर में होने वाले इस निर्माण का जिम्मा दिया गया है। पुलिस भवन निर्माण निगम के लोग सुन लें, इस काम में इतनी देरी क्यों हो रही है। जब हमने कह दिया था कि यहीं पर पुलिसकर्मियों की ट्रेनिंग होगी। फिर भी काम क्यों नहीं हो रहा है। हम तो एक-एक जगह जाकर देख लिये। सिर्फ 1-2 जगहों पर काम शुरू हुआ है। सीएम नीतीश ने कहा कि गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद को कहा कि आप जो बैठे हुए हैं जान लीजिए। आपलोग जाकर देखिए की काम क्यों नहीं शुरू हो रहा? थोड़ा-थोड़ा काम का उद्घाटन-शिलान्यास करने में इंट्रेस्ट नहीं है। आपलोग एक साथ काम पूरा कीजिए तभी अब उद्घाटन करने जायेंगे। नाराज सीएम नीतीश ने कहा कि याद रखियेगा, जब हमलोगों को काम करने का मौका मिला उसके पहले क्या स्थिति थी? पुलिस की वर्दी कैसी थी? पुलिसकर्मियों के लिए क्या नहीं किये गये, भवनों की क्या स्थिति थी? उसी हमने निर्णय लिया था कि पुलिस भवनों का निर्माण करायेंगे। पुलिस भवन निर्माण की स्थापना 1974 में स्थापित की गई थी। लेकिन हमलोगों से पहले इसे बंद करने का निर्णय लिया गया था। लेकिन 2007 में हमने इसे फिर से जीवित किया। अब पुलिस से जुड़े सभी भवनों का निर्माण पुलिस भवन निर्माण निगम करता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि थाना कहीं किराए की बिल्डिंग में चल रहा। हमने कई बार कहा कि जमीन चिन्हित कर वहां पर भवन बनाएं। यह काम गृह विभाग का है। मुझे तकलीफ है कि अभी भी 15 पुलिस थाने को भूमि नहीं मिला है। यह काफी चिंता वाली बात है। गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद पर कटाक्ष करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जमीन चिन्हित क्यों नहीं हुआ? सब बात जानिए आप सब बात बोल रहे थे कि ये हो रहा, लेकिन काम क्यों नहीं हो रहा है? थानों के लिए जमीन क्यों नहीं मिल रहा है? ऐसे कार्यक्रम में विकास आयुक्त को क्यों नहीं रखा जाता है। वह पहले गृह विभाग का जिम्मा संभाल चुके हैं। सीएम नीतीश ने गृह विभाग को कहा कि थाना भवन निर्माण में देरी क्यों हो रही है। इससे पहले सीएम नीतीश ने शुक्रवार को 237.881 करोड़ की लागत से 38 थाना भवन, सुपौल पुलिस लाइन, केन्द्रीय प्रशिक्षण संस्थान, बिहटा सहित कुल 94 नवनिर्मित पुलिस भवनों का उद्घाटन एवं 149.96 करोड़ की लागत से बनने वाले 57 पुलिस भवनों का शिलान्यास किया।


from Hindi Samachar: हिंदी समाचार, Samachar in Hindi, आज के ताजा हिंदी समाचार, Aaj Ki Taza Khabar, आज की ताजा खाबर, राज्य समाचार, शहर के समाचार - नवभारत टाइम्स https://ift.tt/3AFMGXB
https://ift.tt/3AF6uuq

No comments