Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

Breaking News:

latest

भारत श्री सम्मान

भारत श्री सम्मान
आप के योगदान को देता है , समुचित सम्मान एवं कार्य क्षेत्रों को देता है नया आयाम। "भारत श्री सम्मान" । आज ही आवेदन करें । कॉल एवं व्हाट्सएप : 9354343835.

Jharkhand News : झारखंड के 'एलोवेरा विलेज' को जानते हैं? पीएम मोदी ने 'मन की बात' में की तारीफ

रांची एलोवेरा विलेज (Aloe Vera Village) के रूप में चर्चित झारखंड का देवरी गांव इन दिनों सुर्खियों में हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भ...

रांची एलोवेरा विलेज (Aloe Vera Village) के रूप में चर्चित झारखंड का देवरी गांव इन दिनों सुर्खियों में हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी आज मन की बात कार्यक्रम में राजधानी रांची से करीब 25 किलोमीटर दूर नगड़ी प्रखंड के देवरी गांव की महिलाओं की प्रशंसा की। मन की बात में 'Aloe Vera Village' की तारीफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में कहा कि आमलोगों की जिंदगी का हाल ये है कि एक दिन में सैकड़ों बार कोरोना शब्द हमारे काम में गूंजता है। सौ साल में आई सबसे बड़ी वैश्विक महामारी कोविड-19 ने हर देशवासी को बहुत कुछ सिखाया है। हेल्थकेयर और वेलनेस को लेकर आज जिज्ञासा भी बढ़ी है और जागरूकता भी। उन्होंने कहा कि देश में पारंपरिक रूप से नेचुरल प्रोड्क्टस प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है, जो वेलनेस यानी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें एक पत्र के माध्यम से झारखंड के एलोवेरा विलेज के बारे में जानकारी मिली। रांची के पास ही देवरी गांव की महिलाओं ने मंजू कच्छप जी के नेतृत्व में बिरसा कृषि विश्वविद्यालय से एलोवेरा की खेती का प्रशिक्षण लिया था। इसके बाद उन्होंने एलोवेरा की खेती शुरू की। इस खेती से न केवल स्वास्थ्य के क्षेत्र में लाभ मिला, बल्कि इन महिलाओं की आमदनी भी बढ़ गई। कोविड-19 महामारी के दौरान भी इन्हें अच्छी आमदनी हुई। इसकी एक बड़ी वजह यह थी कि सैनिटाइजर बनाने वाली कंपनियां सीधे इन्हीं से एलोवेरा खरीद रही थीं। आज इस कार्य में करीब 40 महिलाओं की टीम जुटी है और कई एकड़ में एलोवरा की खेती होती है। ICAR ने सर्वे में देवरी को एलोवेरा की खेती के लिए मुफीद माना दिसंबर 2018 में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, आईसीएआर (Indian Council of Agricultural Research) और बिरसा कृषि विश्वविद्यालय ने आदिवासी उपयोजना के तहत देवरी गांव में सर्वेक्षण कराया गया। इसे एलोवेरा की खेती के लिए योग्य माना गया। जिसके बाद इस गांव का नाम ही एलोवेरा विलेज दे दिया गया। एलोवेरा की खेती में गांव की अधिकांश महिलाओं ने दिलचस्पी दिखाई और कुछ ही वर्षां में इस गांव की चर्चा पूरे झारखंड ही नहीं, देश स्तर पर होने लगी है। एलोवेरा के पत्ते बेच कर हर महीने 5-6 हजार रुपए की आमदनी देवरी गांव की भाग्यमनी तिर्की का कहना है कि दिसंबर 2018 में गांव की तीन दर्जन से अधिक महिलाओं को प्रशिक्षण के लिए रांची स्थित बिरसा कृषि विश्वविद्यालय ले जाया गया, जहां उन्हें प्रशिक्षण देने के साथ ही सभी महिलाओं को 50-50 एलोवेरा का पौधा दिया गया और इस छोटी से शुरुआत के साथ आज देवरी गांव का नाम पूरे झारखंड में विख्यात हो गया है। मीडिया के माध्यम से जानकारी मिलने पर दूर-दूर से लोग एलोवेरा के पौधे और पत्ते को खरीदने आते हैं। गांव की महिलाएं 35 रुपए किलो के हिसाब से एलोवेरा के पत्ते बेचती हैं और हर महीने इससे पांच-छह हजार रुपए आसानी से कमा लेती हैं। प्रॉसेसिंग यूनिट की स्थापना से मुनाफा में कई गुणा होगा इजाफा देवरी पंचायत की मुखिया मंजू कच्छप खुद भी एलोवेरा की खेती कार्य में लगी हैं। वह बताती है कि गर्मी के दिनों में कुछ दिनों के अंतराल में सिंचाई की जरूरत पड़ती है, जबकि दूसरे मौसम में पटवन की कोई खास जरूरत नहीं पड़ती है। साथ ही पौधे को रोपने में भी किसी प्रकार का खर्च नहीं होता है। बड़े पौधे से दूसरा पौधा तैयार होता है, जिसके कारण इसमें किसी प्रकार का निवेश नहीं होता है। साथ ही बाजार भी आसानी से उपलब्ध हो जाता है। हालांकि मंजू हेम्ब्रम का कहना है कि अगर गांव में ही एलोवरा प्रसंस्करण यूनिट की स्थापना हो जाए, तो मुनाफा कई गुणा बढ़ जाएगा। कई बीमारियों और सौंदर्य प्रसाधन में एलोवेरा का होता है इस्तेमाल एलोवेरा का उपयोग जॉन्डिस समेत कई अन्य बीमारियों के उपचार में होता है। इसके अलावा सौंदर्य प्रसाधन, फेसवॉश, साबुन बनाने समेत दूसरे कार्यों में भी होता है। बड़े शहरों में लोग अब एलोवेरा को पेय पदार्थ के रूप में भी कर रहे हैं। इन खूबियों की वजह से रांची और आसपास से बड़ी संख्या में लोग एलोवेरा के पत्ते को खरीदने के लिए पहुंचते हैं। रांची के हटिया स्थित लटमा गांव से एलोवरा का पत्ता खरीदने पहुंची करमी देवी ने बताया कि वो इसके पत्ते का उपयोग कई कार्यों में करती हैं।


from Hindi Samachar: हिंदी समाचार, Samachar in Hindi, आज के ताजा हिंदी समाचार, Aaj Ki Taza Khabar, आज की ताजा खाबर, राज्य समाचार, शहर के समाचार - नवभारत टाइम्स https://ift.tt/3m30a9O
https://ift.tt/3m31lpK

No comments