Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

Breaking News:

latest

भारत श्री सम्मान

भारत श्री सम्मान
आप के योगदान को देता है , समुचित सम्मान एवं कार्य क्षेत्रों को देता है नया आयाम। "भारत श्री सम्मान" । आज ही आवेदन करें । कॉल एवं व्हाट्सएप : 9354343835.

नोएडा में डेंगू पीड़ित 300 के पार, बेड फुल, जिला अस्पताल से लौटाए जा रहे मरीज

नोएडा नोएडा-ग्रेनो में शनिवार को डेंगू से पीड़ित मरीजों की संख्या 300 पार हो गई। बीते 24 घंटे में 19 नए मरीज मिलने से यह संख्या 306 के रे...

नोएडा नोएडा-ग्रेनो में शनिवार को डेंगू से पीड़ित मरीजों की संख्या 300 पार हो गई। बीते 24 घंटे में 19 नए मरीज मिलने से यह संख्या 306 के रेकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है। डेंगू के 39 मरीज सक्रिय अवस्था में हैं। अस्पतालों में बुखार और डेंगू से पीड़ित मरीजों से बेड भरे हुए हैं। एक बेड पर दो-दो मरीज भर्ती हो रहे हैं। सेक्टर 30 स्थित 100 बेड के जिला अस्पताल में बच्चा वॉर्ड भी डेंगू मरीजों से फुल होने के बाद अब डेंगू मरीज वापस किए जा रहे हैं। इन सब के बीच सेक्टर 39 स्थित 250 बेड के कोविड अस्पताल में कोविड के सिर्फ 3 मरीज भर्ती हैं। 247 बेड खाली पड़े धूल खा रहे हैं। अस्पताल प्रशासन इस बात का संज्ञान नहीं ले रहा है कि कुछ मरीजों को वहां भर्ती कर दिया जाए, जिससे लोगों को निजी अस्पताल में महंगा इलाज न करवाना पड़े। डेंगू वॉर्ड में 10 बेड, भर्त हैं 14 डेंगू से मरीजों की मौत का सिलसिला भी शुरू हो गया है। स्वास्थ्य विभाग ने एक बच्चे में डेंगू से मौत की पुष्टि भी कर दी है। जिला अस्पताल और कोविड अस्पताल की सीएमएस डॉ. सुषमा चंद्रा ने बताया कि जिला अस्पताल में 10 बेड का डेंगू वॉर्ड है लेकिन इस समय डेंगू के 14 मरीज भर्ती हैं। सर्जरी विभाग में डेंगू के मरीज! इसके अलावा कोई बेड खाली नहीं हैं। अस्पताल प्रशासन ने 25 मच्छरदानी मंगाकर रख ली हैं। अतिरिक्त डेंगू मरीज आने पर मेडिसिन या सर्जरी विभाग में कोई बेड खाली होता है तो डेंगू मरीज को वहां भर्ती कर दिया जाएगा। कोई बेड खाली न होने पर मरीज को वापस करना पड़ता है। हालांकि, कोशिश यह रहती है कि कोई मरीज वापस न जाए। मरीज परेशान, खाली पड़े हैं 247 बेड कोविड अस्पताल में 250 बेड में 100 बेड पीडियाट्रिक इंटेंसिव केयर यूनिट (पीआईसीयू) के यानी बच्चों के इलाज के लिए हैं। इस समय अस्पताल में कुल 3 कोविड मरीज भर्ती हैं। तीनों मरीजों को अगर एक मंजिल पर भर्ती किया जाए और वहां का स्टाफ अलग कर दिया जाए, ऐसे में अन्य मंजिलों पर संक्रमण का खतरा नहीं रहेगा। ऐसा नहीं होने से डेंगू मरीज निजी अस्पताल में महंगा इलाज कराने के लिए मजबूर हैं। अस्पताल की सीएमएस डॉ. सुषमा चंद्रा ने बताया कि जबतक वहां कोविड के मरीज भर्ती रहेंगे कोई अन्य मरीज भर्ती नहीं होंगे। 31 दिसंबर तक डेडिकेटेड कोविड अस्पताल ही बना रहेगा। जानकारी के मुताबिक कोविड अस्पताल में 12 डॉक्टर और 40 अन्य स्टाफ की ड्यूटी लगी हैं।


from Hindi Samachar: हिंदी समाचार, Samachar in Hindi, आज के ताजा हिंदी समाचार, Aaj Ki Taza Khabar, आज की ताजा खाबर, राज्य समाचार, शहर के समाचार - नवभारत टाइम्स https://ift.tt/3Gh2HX9
https://ift.tt/3B3rGcU

No comments