Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

Breaking News:

latest

भारत श्री सम्मान

भारत श्री सम्मान
आप के योगदान को देता है , समुचित सम्मान एवं कार्य क्षेत्रों को देता है नया आयाम। "भारत श्री सम्मान" । आज ही आवेदन करें । कॉल एवं व्हाट्सएप : 9354343835.

8 पैर और 4 कान वाले बकरी के बच्चे का हुआ जन्म, देखने के लिए लग गई सैकड़ों लोगों की भीड़

चंदन कुमार, भोजपुर बिहार के भोजपुर स्थित एक गांव में अजब तरह का मामला सामने आया। जहां एक बकरी ने तीन बच्चों को जन्म दिया। इसमें से एक बच्...

चंदन कुमार, भोजपुर बिहार के भोजपुर स्थित एक गांव में अजब तरह का मामला सामने आया। जहां एक बकरी ने तीन बच्चों को जन्म दिया। इसमें से एक बच्चे के 8 पैर और चार कान थे। बकरी ने जिन तीन बच्चों को जन्म दिया, उनमें दो बच्चे नॉर्मल हैं। हालांकि, तीसरे बच्चे के 8 पैर और 4 कान थे। जैसे ही इस बात की जानकारी आस-पास के लोगों को हुई तो वो तुरंत ही इस बकरी के बच्चे को देखने के लिए पहुंचने लगे। भोजपुर जिले में अजीबोगरीब मामला जानकारी के मुताबिक, बकरी पालक के घर बुधवार को सैकड़ों लोगों की भीड़ जुट गई। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि उसकी बकरी ने 8 पैर और 4 कान वाले बच्चे को जन्म दिया। गांव में जिसे भी यह सूचना मिली, वो भागता हुआ बकरी के बच्चे को देखने पहुंच गया। हालांकि, बकरी का यह बच्चा केवल 4 घंटे ही जीवित रहा। मामला सिकरहटा थाना क्षेत्र के कुरमुरी गांव का है। बकरी ने दिया 3 बच्चों को जन्म, एक के थे 8 पैर और चार कानबकरी पालक ने बताया कि ऐसे रूप में पशु का जन्म लेना कुछ लोग शुभ तो कुछ लोग अशुभ मानते हैं, लेकिन मैं इसे शुभ ही मानता हूं। मुझे इस बात की बहुत खुशी है कि मेरे घर में इस तरह का एक बकरी का बच्चा जन्म लिया। कुरमुरी गांव के रहने वाले पितांबर रवानी अपने घर पर बकरी पालन करते हैं। बुधवार को बकरी ने तीन बच्चों को जन्म दिया। इनमें से दो बिल्कुल सामान्य थे, जबकि तीसरे बच्चे के 8 पैर और 4 कान थे। देखते ही देखते यह खबर आग की तरह पूरे गांव में फैल गई और लोगों का तांता लग गया। इस मामले में बकरी पालक ने क्या कहापितांबर रवानी ने कहा कि वो पिछले 5 साल से बकरी पाल रहे हैं। इस बच्चे को देखकर पितांबर रवानी भी कुछ देर तक आश्चर्य में थे। दूसरी ओर, इस मामले में बातचीत के दौरान अवर प्रमंडल पशु पालन पदाधिकारी डॉ. राजेश कुमार ने कहा कि कुछ जानवरों में मोनोसिफैलिक ओक्टापस कॉनजॉइंड के कारण इस तरह के लक्षण देखने को मिलते हैं। भ्रूण का विकास पूर्ण रूप से नहीं हो पाता है। इसी कारण इस तरीके की समस्या देखने को मिलती है।


from Hindi Samachar: हिंदी समाचार, Samachar in Hindi, आज के ताजा हिंदी समाचार, Aaj Ki Taza Khabar, आज की ताजा खाबर, राज्य समाचार, शहर के समाचार - नवभारत टाइम्स https://ift.tt/3BkKKnZ
https://ift.tt/3lfh1ae

No comments