Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

Breaking News:

latest

West Bengal election result-2021

West Bengal election result-2021

Rajasthan: आरएएस परीक्षा में एक सवाल ने बढ़ाई उलझन, सही उत्तर पर हाईकोर्ट तक में हो चुकी सुनवाई

रामस्वरूप लामरोड़, जयपुर राजस्थान लोक सेवा आयोग की ओर से बुधवार 27 अक्टूबर को आयोजित राज्य एवं अधीनस्थ सेवाएं संयुक्त प्रतियोगिता (प्रारम...

रामस्वरूप लामरोड़, जयपुर राजस्थान लोक सेवा आयोग की ओर से बुधवार 27 अक्टूबर को आयोजित राज्य एवं अधीनस्थ सेवाएं संयुक्त प्रतियोगिता (प्रारम्भिक) परीक्षा (RAS-2021) संपन्न हो गई है। इस परीक्षा में एक प्रश्न 'राजस्थान में सौर वैधशाला कहां है?' पूछा गया। इस प्रश्न के उत्तर को लेकर कई अभ्यर्थी कन्फ्यूज रहे। क्योंकि सौर वैधशाला जयपुर (जंतर-मंतर) में भी है और उदयपुर में भी। ये दोनों विकल्प भी अलग अलग दिए गए थे। यह प्रश्न पूर्व में भी में भी पूछा गया था। जिसके उत्तर को लेकर अभ्यर्थी हाईकोर्ट गए थे। हाईकोर्ट ने उदयपुर को सही उत्तर माना था। परीक्षा में महज 49.37 फीसदी ही पहुंचे इस परीक्षा में कुल पंजीकृत अभ्यर्थियों मेंं से आधे से भी कम अभ्यर्थियों ने परीक्षा दी। कुल 6 लाख 48 हजार 181 अभ्यर्थी पंजीकृत थे जिनमें से 3 लाख 20 हजार 34 अभ्यर्थियों ने ही परीक्षा दी। 3 लाख 28 हजार 147 अभ्यर्थी अनुपस्थित रहे। यानी 49.37 फीसदी उपस्थिति रही। 988 पदों के लिए हो रही RAS-2021 परीक्षा में 363 पद राज्य सेवा के हैं जबकि 625 पद अधीनस्थ सेवाओं के हैं। अब मुख्य परीक्षा के लिए आयोग कुल रिक्त पदों के 15 गुणा अभ्यर्थियों को पात्र मानेगा। आरपीएससी ने यूपीएससी पैटर्न पर बनाया प्रश्न-पत्र प्रतियोगिता परीक्षाओं के एक्सपर्ट और हिन्दी के विद्वान डॉक्टर राघव प्रकाश ने बताया कि प्रश्न पत्र का लेवल उच्च स्तर का था। अधिकतर सवाल ऐसे ही पूछे गए थे जिनके जरिए अभ्यर्थियों के नॉलेज को परखने की कोशिश की गई। जिसे विषय का पूरा कॉन्सेप्ट पता था वही अभ्यर्थी सवालों को हल कर सके। डॉक्टर राघव प्रकाश ने कहा कि कुछ प्रश्न ऐसे भी पूछे गए थे जिनसे अभ्यर्थी की बुद्धिमता को परखने के बजाय याददास्त को परखा गया। अर्थात रटे रटाए प्रश्नों को भी शामिल किया गया। हालांकि अधिकतर प्रश्न प्रशासनिक क्षमताओं को परखने वाले थे। बाजार की गाइडों से सीधे सवाल पूछने के बजाय विषय के ज्ञान को परखने वाला था प्रश्न पत्र डॉक्टर सविता पाईवाल के मुताबिक कि इस बार RAS-2021 की प्रारम्भिक परीक्षा में यूपीएससी पैटर्न पर सवाल पूछे गए। सामान्य पुस्तकों और बाजार में उपलब्ध गाइडों से सीधे प्रश्न बहुत कम पूछे गए। ज्यादातर प्रश्न यूपीएससी के पैटर्न की तरह नवाचार करते हुए गैर परम्परागत तरीके से बनाए हुए थे। प्रश्नों को सीधा पूछे जाने के बजाय विषय के ज्ञान के संबंध में पूछे गए थे। 15 से ज्यादा प्रश्न राजस्थान की आर्थिक समीक्षा से पूछे गए। डॉक्टर सविता पाईवाल के मुताबिक इंडियन हिस्ट्री से जुड़े सवाल अभ्यर्थियों को जरूर कठिन लगे। आर्ट्स स्ट्रीम के अभ्यर्थियों को गणित के सवालों ने उलझाया एक्जाम एक्सपर्ट अरुण ढाका बताते हैं कि समसामयिक घटनाक्रमों में लेटेस्ट सवाल पूछे गए। एक सवाल 18 अगस्त 2021 का भी पूछा गया जिसमें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा संविधान संसोधन को मंजूरी दी गई थी। आर्ट्स स्ट्रीम के अभ्यर्थियों के लिए गणित के प्रश्न काफी कठिन रहे, ऐसे में माइनस मार्किंग से कट ऑफ कम रहने की संभावना है। रिजनिंग के प्रश्न सामान्य स्तर के पूछे गए जो सभी अभ्यर्थियों के लिए समान रहे। जयपुर की अवनी लेखरा से जुड़ा प्रश्न भी आया RAS-2021 प्री एग्जाम में RAS-2021 में ओलम्पिक और पैरा ओलम्पिक दोनों से सवाल पूछे गए। जयपुर की अवनी लेखरा टोक्यो पैरा ओलम्पिक के समापन समारोह में भारत की ध्वज वाहक बनी थी। यही सवाल पूछा गया था कि पैरा ओलम्पिक के समापन समारोह में ध्वज वाहक कौन बना। ओलम्पिक से जुड़ा दूसरा सवाल यह था कि ओलम्पिक में भारत के लिए सिल्वर पदक विजेता कौन कौनर रहे। इसका सही जवाब रवि कुमार दहिया और मीराबाई चानू था।


from Hindi Samachar: हिंदी समाचार, Samachar in Hindi, आज के ताजा हिंदी समाचार, Aaj Ki Taza Khabar, आज की ताजा खाबर, राज्य समाचार, शहर के समाचार - नवभारत टाइम्स https://ift.tt/3BjxhMf
https://ift.tt/3pHifO6

No comments