Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

Breaking News:

latest

भारत श्री सम्मान

भारत श्री सम्मान
आप के योगदान को देता है , समुचित सम्मान एवं कार्य क्षेत्रों को देता है नया आयाम। "भारत श्री सम्मान" । आज ही आवेदन करें । कॉल एवं व्हाट्सएप : 9354343835.

शरीर से जुड़े भाइयों सोहना और मोहना ने डाले 2 वोट, जानिए क्या है कहानी

अमृतसर: एक जिस्म दो जान के रूप में जीवन बिता कर रहे अमृतसर के सोहना-मोहना (Sohna-Mohna) ने इस बार पंजाब विधानसभा (Punjab Assembly Electio...

अमृतसर: एक जिस्म दो जान के रूप में जीवन बिता कर रहे अमृतसर के सोहना-मोहना (Sohna-Mohna) ने इस बार पंजाब विधानसभा (Punjab Assembly Election 2022) चुनाव में पहली बार वोट डाले। जन्म से ही शरीर से एक-साथ जुड़े भाइयों के लिए चुनाव आयोग ने दो वोट मंजूर किए थे। हाल ही में दोनों को वोटर आईडी भी सौंपी गई थी। वोट डालने के बाद दोनों ने कहा कि उन्हें बहुत अच्छा लग रहा है। पंजाब की सभी 117 विधानसभा सीटों (Punjab Election Voting Update) पर आज मतदान हो रहा है। पंजाब के इन विशेष मतदाताओं को मतदान केंद्र तक पहुंचाने के लिए विशेष प्रबंध किए गए। पंजाब के मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ.एस करूणा राजू के अनुसार दोनों भाइयों को उनके वोटर आई कार्ड सौंपे थे। सोहना-मोहना को दो अलग-अलग पहचान पत्र दिए गए थे। वोट डालने के बाद उन्होंने कहा, 'पहली बार मतदान करके बहुत अच्छा लग रहा है। नागरिकों को अपने मत का इस्तेमाल ज़रूर करना चाहिए।' दोनों के बीच लगाया गया पर्दा दोनों भाईयों ने अमृतसर के बूथ नंबर 101 पर वोट डाला। बूथ पर गोपनीयता रखने का पूरा प्रबंध किया गया था। दोनों ही अपनी मर्जी से वोट डाला। दोनों के बीच एक कपड़े का पर्दा लगाया गया ताकि जब एक वोट डाले तो दूसरा उसे न देख सके। कौन हैं सोहना-मोहना? 14 जून 2003 को नई दिल्ली के सुचेता कृपलानी अस्पताल में दोनों जुड़वां भाइयों का जन्म हुआ था। इन दोनों का कमर के नीचे का हिस्सा एक है, जबकि ऊपर का हिस्सा अलग है। इन दोनों के दो दिल, दो जोड़ी गुर्दे, दो जोड़ी हाथ और रीढ़ की हड्डी है। लेकिन एक ही लीवर और एक जोड़ी पैर है। जन्म के बाद इन्हें इनके माता-पिता ने छोड़ दिया। फिर उन्हें एम्स में ट्रांसफर कर दिया गया। वहां एक की जान पर खतरा होने के कारण डॉक्टरों ने इन्हें अलग-अलग करने का फैसला नहीं किया। डॉक्टरों ने इन्हें अमृतसर के पिंगलवाड़ा चैरिटेबल ट्रस्ट को सौंप दिया। जहां इन्हें नाम दिया गया सोहना-मोहना। दो महीने के सोहना-मोहना को ट्रस्ट में लाया गया था। इसके बाद यही ट्रस्ट इनका घर बन गया।


from Local News, लोकल न्यूज, Hindi Samachar, हिंदी समाचार, state news in hindi, राज्य समाचार , Aaj Ki Taza Khabar, आज की ताजा खाबर - नवभारत टाइम्स https://ift.tt/pnoUbcu
https://ift.tt/sDbPGYL

No comments