Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

Breaking News:

latest

भारत श्री सम्मान

भारत श्री सम्मान
आप के योगदान को देता है , समुचित सम्मान एवं कार्य क्षेत्रों को देता है नया आयाम। "भारत श्री सम्मान" । आज ही आवेदन करें । कॉल एवं व्हाट्सएप : 9354343835.

मौत के बाद भी 4 लोगों को जिंदगी दे गया सीकर का सुनील, परिजनों ने हार्ट, लीवर और दोनों किडनी की डोनेट

रामस्वरूप लामरोड़, जयपुर: राजस्थान केसीकर निवासी 28 वर्षीय युवक सुनील साई मरने के बाद चार जनों को नई जिन्दगी देकर गया। सड़क हादसे में घाय...

रामस्वरूप लामरोड़, जयपुर: राजस्थान केसीकर निवासी 28 वर्षीय युवक सुनील साई मरने के बाद चार जनों को नई जिन्दगी देकर गया। सड़क हादसे में घायल (road accident injury) होने के बाद सुनील को जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल में भर्ती कराया गया। कुछ दिन के इलाज के बाद डॉक्टरों ने सुनील को ब्रेन डेड (Brain death) घोषित कर दिया। इसके बाद सवाई मानसिंह अस्पताल (sms hospital jaipur) के डॉक्टरों ने सुनील के परिजनों को ऑर्गन डॉनेट करने के लिए समझाया। डॉक्टरों की समझाइस के बाद परिजन सुनील के ऑर्गन डॉनेट () करने को तैयार हो गए। सोमवार 21 फरवरी को हार्ट, लीवर और दोनों किडनियां डोनेट करने के बाद सुनील की देह परिजनों को सुपूर्द की गई। SMS अस्पताल के स्टाफ ने सुनील को दिया गार्ड ऑफ ऑनर हार्ट, लीवर और दोनों किडनियां डोनेट करने के बाद सुनील की पार्थिव देह परिजनों को सुपूर्द करने से पहले अस्पताल के स्टाफ और सुरक्षाकर्मियों ने सुनील को गार्ड ऑफ ऑनर दिया। इसके बाद ससम्मान परिजनों को शव सौंपा गया। डॉ. देवेन्द्र पुरोहित और डॉ. चित्रा सिंह सुनील के परिजनों को ऑर्गन दान करने के लिए प्रेरित किया था। डॉक्टरों ने समझाया कि सुनील के हार्ट, लीवर और किडनियां अच्छी तरह से कार्य कर रही है लेकिन ब्रेन डेड होने के कारण सुनील के शरीर के अंगों में कोई हलचल नहीं हो सकेगी। सोचने, कहने, सुनने और महसूस करने की शक्ति खत्म हो गई है। ऐसे में अगर हार्ट, लीवर और किडनियां दान करेंगे तो सुनील हमेशा सबके बीच रहेगा। इसके बाद सुनील के परिजन ऑर्गन डॉनेट करने को राजी हो गए। हार्ट और लीवर भेजे निजी अस्पताल में, दोनों किडिनयां रखी एसएमएस अस्पताल में सुनील का हार्ट और लीवर जयपुर के निजी अस्पतालों में भेजे गए हैं जहां पर अन्य मरीजों को ट्रांसप्लांट किए जाएंगे। सुनील की दोनों किडनियां जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल में ही रखी गई है। जयपुर में यह आठवां मामला है जब किसी मरीज के ब्रेन डेड होने के बाद हार्ट डोनेट होकर किसी अन्य मरीज को लगाया जाएगा। सीकर के दुजोद निवासी सुनील को 16 फरवरी को एक कार ने टक्कर मार दी थी। गंभीर घायल होने के बाद उसे जयपुर रैफर किया गया। 19 फरवरी को डॉक्टरों ने सुनील को ब्रेन डेड घोषित किया था।


from Local News, लोकल न्यूज, Hindi Samachar, हिंदी समाचार, state news in hindi, राज्य समाचार , Aaj Ki Taza Khabar, आज की ताजा खाबर - नवभारत टाइम्स https://ift.tt/GR9eip2
https://ift.tt/ISFzMHY

No comments