Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

Breaking News:

latest

भारत श्री सम्मान

भारत श्री सम्मान
आप के योगदान को देता है , समुचित सम्मान एवं कार्य क्षेत्रों को देता है नया आयाम। "भारत श्री सम्मान" । आज ही आवेदन करें । कॉल एवं व्हाट्सएप : 9354343835.

एक्टर अक्षत उत्कर्ष मौत मिस्ट्री, जांच करने मुजफ्फरपुर पहुंची मुंबई पुलिस, स्नेहा चौहान का कनेक्शन समझिए

संदीप कुमार, मुजफ्फरपुर : एक्टर अक्षत उत्कर्ष मौत मामला (Actor ) डेढ़ साल बाद फिर सुर्खियों में है। मुंबई पुलिस ने अक्षत (Akshat Utkarsh)...

संदीप कुमार, मुजफ्फरपुर : एक्टर अक्षत उत्कर्ष मौत मामला (Actor ) डेढ़ साल बाद फिर सुर्खियों में है। मुंबई पुलिस ने अक्षत (Akshat Utkarsh) के घर जाकर परिजनों का बयान लिया। जैसे ही पुलिस लौटने लगी की अक्षत के चाचा विक्रांत किशोर मुंबई पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए पुलिस जीप के आगे लेट गए। विक्रांत की इस हरकत से मौके पर अफरा-तफरी का माहौल बन गया। विक्रांत के आरोपों को लेकर जब मुंबई पुलिस के पदाधिकारियों से सवाल किया गया तो खामोश हो गए। 27 सितंबर 2020 को बॉलीवुड में काम कर रहे अक्षत उत्कर्ष की मौत हो गई थी। उनकी लाश अंधेरी वेस्ट स्थित आवास तौलिए के फंदे से लटकती हुई बरामद की गई थी। अक्षत का शव लाने मुंबई गए चाचा विक्रांत किशोर का दावा है कि एक्टर की हत्या की गई थी। स्थानीय लोगों की मदद से विक्रांत किशोर को संभाला गया। विक्रांत किशोर ने मुंबई पुलिस पर केस को रफा-दफा करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, 'अक्षत की डेड बॉडी लाने मैं गया था लेकिन पुलिस ने मेरा बयान लेना उचित नहीं समझा और वापस चली गई। इसीलिए मैंने विरोध किया।' विक्रांत किशोर ने दावा किया कि अक्षत की लंबाई 6 फीट थी और कमरे की ऊंचाई मात्र 9 फीट। ऐसे में अक्षत की खुदकुशी की बात सही नहीं लगती। मुंबई पुलिस हत्या के इस केस में आरोपी बनाई गई स्नेहा की गिरफ्तारी भी नहीं कर रही है। मामले में अभियुक्त बनाई गई स्नेहा चौहान मृतक की रूम पार्टनर थी और लिव इन रिलेशनशिप में रहते हुए दोनों बॉलीवुड में स्ट्रगल कर रहे थे। विक्रांत ने मुंबई पुलिस पर स्नेहा से मिलीभगत का आरोप लगाया। मीडिया से बातचीत में विक्रांत ने कहा कि 27 सितंबर की रात को करीब 9:00 बजे अक्षत से आखिरी बार बातचीत हुई थी। उसने बताया था कि कुछ लोग आए हुए हैं बाद में बात करेंगे। लेकिन उनका कॉल नहीं आया। 9:30 बजे के बाद अक्षत का व्हाट्सएप भी बंद हो गया और मोबाइल का कॉलर ट्यून बदल गया। करीब 11:30 बजे रात में रूम पार्टनर स्नेहा चौहान ने उत्कर्ष के मामा को कॉल कर आत्महत्या की सूचना दी थी । मुंबई पहुंच कर क्राइम सीन देखने के बाद पुलिस को हत्या का केस दर्ज करने के लिए कहा गया। लेकिन मुंबई पुलिस ने उन्हें दरकिनार कर दिया। इस मामले में बिहार पुलिस की पहल पर मुजफ्फरपुर नगर थाने में मर्डर केस में सिर्फ आई आर दर्ज किया गया था। केस दर्ज करने के बाद छानबीन के लिए मुंबई पुलिस को भेज दिया गया। मामला सुप्रीम कोर्ट और मानवाधिकार आयोग में जाने के बाद मुंबई पुलिस मुजफ्फरपुर पहुंची है। इस बीच अक्षत उत्कर्ष की मौत के बाद करीब डेढ़ साल का समय बीत चुका है। वहीं, इस मामले को मानवाधिकार तक पहुंचाने वाले अधिवक्ता एसके झा ने बताया कि आने वाले वक्त में इस मामले में मुंबई पुलिस के तमाम बड़े अधिकारियों को मुजफ्फरपुर आना होगा और अक्षत को न्याय दिलाना होगा।


from Local News, लोकल न्यूज, Hindi Samachar, हिंदी समाचार, state news in hindi, राज्य समाचार , Aaj Ki Taza Khabar, आज की ताजा खाबर - नवभारत टाइम्स https://ift.tt/f39wJcY
https://ift.tt/kOYdMzb

No comments