Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

Breaking News:

latest

भारत श्री सम्मान

भारत श्री सम्मान
आप के योगदान को देता है , समुचित सम्मान एवं कार्य क्षेत्रों को देता है नया आयाम। "भारत श्री सम्मान" । आज ही आवेदन करें । कॉल एवं व्हाट्सएप : 9354343835.

चुनावी नतीजों का मुंबई पर भी होगा असर! बीएमसी चुनाव को लेकर मिली दिशा

मुंबई: पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों का असर मुंबई में भी देखने को मिलेगा। में पार्टियों के लिए यह नतीजे एक रोड मैप का काम करेंगे। पार्...

मुंबई: पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों का असर मुंबई में भी देखने को मिलेगा। में पार्टियों के लिए यह नतीजे एक रोड मैप का काम करेंगे। पार्टियों ने जीत का जश्न मनाकर मुंबई के कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ाने की शुरुआत भी कर दी है। कई राज्यों से ज्यादा के बजट वाली बीएमसी की सत्ता हासिल करना सभी का सपना है। जानिए, अलग-अलग पार्टियों के परिपेक्ष्य में नतीजों का कैसा हो सकता है असरः बीजेपीःपांच में से चार राज्यों में परचम लहराने वाली बीजेपी के हौसले इससे काफी बढ़ गए हैं, खासकर उत्तर प्रदेश की जीत से। मुंबई में बड़ी संख्या में उत्तर-प्रदेश से आकर बसे लोग हैं। बीजेपी इसे उनसे जुड़ने का सीधा मौका मान रही है। वैसे भी, पिछले कुछ चुनावों से उत्तर भारतीयों को काफी हद तक जोड़ने में पार्टी सफल भी हुई है। कांग्रेसःराज्य दर राज्य अपनी सत्ता गंवाने वाली कांग्रेस को अपने कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने के लिए बूस्टर डोज की तलाश है। पिछले बीएमसी चुनाव में 30 सीटें जीतने वाली कांग्रेस के लिए वर्तमान स्थितियों में वह भी संख्या बचाए रखना किसी चमत्कार से कम नहीं होगा। पूर्व नगरसेवक अशरफ आजमी ने कहा कि विधानसभा और बीएमसी चुनाव बिलकुल अलग मुद्दों पर लड़े जाते हैं। संगठन चुनाव भी जल्द पूरा होगा, हम मंथन करके फिर से मैदान में उतरेंगे। आपःपंजाब में आम आदमी पार्टी की बंपर जीत ने पार्टी कार्यकर्ताओं की बांछें खिला दी हैं। पार्टी एजुकेशन, हेल्थ के अपने परंपरागत मॉडल के अलावा मुफ्त बिजली, मुफ्त पानी की स्कीम के जरिए बीएमसी में दमदार उपस्थिति दर्ज कराने की कोशिश में जुट गई है। हाल ही में, कई पार्टियों के कार्यकर्ताओं के प्रवेश से संगठन भी खड़ा करने का काम शुरू है। आप के कार्यकारी अध्यक्ष रूबेन मेसक्रिन्हास ने कहा कि आप केवल दिल्ली की पार्टी नहीं है, यह स्पष्ट हो गया है। हम बीएमसी चुनाव में मजबूती से चुनाव लड़ेंगे। शिवसेनाःमहाराष्ट्र के बाहर पार्टी के विस्तार के लिए प्रयासरत शिवसेना को इन चुनावों से काफी झटका लगा है। महंगाई, कोरोना के बावजूद पुराने पार्टनर बीजेपी की जीत से पार्टी की चिंता बढ़ गई है। आगामी बीएमसी चुनाव में शिवसेना को दमदार चुनौती का सामना करना पड़ सकता है। इससे पहले, हैदराबाद म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन के चुनावों में अमित शाह और जे.पी. नड्डा तक प्रचार कर चुके हैं। जाहिर है, इसका दोहराव बीएमसी में भी देखने को मिल सकता है।


from Local News, लोकल न्यूज, Hindi Samachar, हिंदी समाचार, state news in hindi, राज्य समाचार , Aaj Ki Taza Khabar, आज की ताजा खाबर - नवभारत टाइम्स https://ift.tt/piXPWFs
https://ift.tt/y6ceZDS

No comments