Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

Breaking News:

latest

भारत श्री सम्मान

भारत श्री सम्मान
आप के योगदान को देता है , समुचित सम्मान एवं कार्य क्षेत्रों को देता है नया आयाम। "भारत श्री सम्मान" । आज ही आवेदन करें । कॉल एवं व्हाट्सएप : 9354343835.

त्रिपुरा निकाय चुनाव में BJP को बंपर सफलता, 334 में 329 सीटों पर जमाया कब्जा

अगरतला उत्तर प्रदेश चुनाव से पहले बीजेपी के लिए एक अच्छी खबर आई है। में बीजेपी को 334 में से 329 सीटों पर जीत हासिल हुई है। वहीं, अगरतला ...

अगरतला उत्तर प्रदेश चुनाव से पहले बीजेपी के लिए एक अच्छी खबर आई है। में बीजेपी को 334 में से 329 सीटों पर जीत हासिल हुई है। वहीं, अगरतला सहित अन्य नगर निगम में विपक्ष का खाता तक नहीं खुल सका है। बीजेपी ने अगरतला के सभी 51 वार्डों पर जीत दर्ज की है। रविवार सुबह से त्रिपुरा में (एएमसी) और 13 नगर निकायों की 222 सीट के लिए जारी मतगणना पूरी हो चुकी है। इसमें सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने जबरदस्त जीत हासिल की है। बीजेपी ने खोवाई नगर परिषद, कुमारघाट नगर परिषद, सबरूम नगर पंचायत, अमरपुर नगर पंचायत, पार्टी कैलाशहर, तेलियामुरा, मेलाघर और बेलोनिया नगर परिषदों के अलावा धर्मपुर और अंबासा नगर पालिकाओं, पानीसागर, जिरानिया और सोनापुरा नगर पंचायतों में भी शानदार जीत हासिल की है। शहरी स्थानीय निकायों की 334 सीटें हैं राज्य में शहरी स्थानीय निकायों की 334 सीटें हैं। जिसमें बीजेपी ने 329 पर जीत हासिल की है। चुनाव में बीजेपी के शानदार प्रदर्शन पर प्रतिक्रिया देते हुए पार्टी उपाध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि त्रिपुरा नगर निकाय चुनाव के परिणामों ने पूर्वोत्तर राज्य में पैठ जमाने के तृणमूल कांग्रेस के दावों के ‘खोखलेपन’ को उजागर कर दिया है और राज्य के लोगों को बीजेपी पर भरोसा है। दिलीप घोष ने टीएमसी कार्यकर्ताओं को बताया भाड़े के लोग घोष ने यहां संवाददाताओं से बातचीत के दौरान त्रिपुरा में चुनाव प्रचार करने वाले तृणमूल कार्यकर्ताओं को ‘भाड़े के लोग’ बताया और कहा कि बीजेपी और राज्य के लोगों के बीच ‘मजबूत संबंध’ हैं। उन्होंने कहा कि तृणमूल त्रिपुरा में अपना खाता तब तक नहीं खोल सकती जब तक बीजेपी किसी सीट से उम्मीदवार नहीं उतारने का फैसला न करे। लोगों का बीजेपी पर भरोसा है: दिलीप घोष घोष ने कहा, ‘नगर निकाय चुनाव के परिणाम उम्मीद के अनुसार आए हैं। तृणमूल का त्रिपुरा में खाता खुलने का कोई आसार नहीं है। उन्होंने केवल शोर मचाया। यह जनादेश दर्शाता है कि पश्चिम बंगाल से आए भाड़े के लोग ऐसे राज्य में किसी पार्टी को अपना आधार बनाने में मदद नहीं कर सकते, जिसका बीजेपी पर भरोसा है।’


from Hindi Samachar: हिंदी समाचार, Samachar in Hindi, आज के ताजा हिंदी समाचार, Aaj Ki Taza Khabar, आज की ताजा खाबर, राज्य समाचार, शहर के समाचार - नवभारत टाइम्स https://ift.tt/3xzifSu
https://ift.tt/310nO0t

No comments