Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

Breaking News:

latest

भारत श्री सम्मान

भारत श्री सम्मान
आप के योगदान को देता है , समुचित सम्मान एवं कार्य क्षेत्रों को देता है नया आयाम। "भारत श्री सम्मान" । आज ही आवेदन करें । कॉल एवं व्हाट्सएप : 9354343835.

साजिश का 'OTP कांड', सोशल मीडिया के जरिए ना'पाक' हरकत, राजस्थान से गिरफ्तारी

जयपुर राजस्थान में पाकिस्तान की एक नापाक साजिश का पर्दाफाश हुआ है। राजस्थान पुलिस ने इस संबंध में चौंकाने वाला खुलासा किया है। दरअसल राजस...

जयपुर राजस्थान में पाकिस्तान की एक नापाक साजिश का पर्दाफाश हुआ है। राजस्थान पुलिस ने इस संबंध में चौंकाने वाला खुलासा किया है। दरअसल राजस्थान के जैसलमेर में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी- इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) के लिए जासूसी करने के आरोप में एक शख्स निबाब खान को गिरफ्तार किया गया। इससे पूछताछ के बाद अब पुलिस ने हैरान कर देने वाले खुलासे किए हैं। राजस्थान पुलिस के डायरेक्टर जनरल ऑफ इंटेलीजेंस (डीजीआई) उमेश मिश्रा के अनुसार निबाब खान (34) 2015 से पाकिस्तान की आईएसआई के लिए काम कर रहा था। उसने ट्विटर, फेसबुक, इंस्टाग्राम और वॉट्सएप पर 25 से अधिक खातों को एक्टिवेट किए। यानी उसने इंडियन अकाउंट बनाने और उसे ऑपरेट करने में पाकिस्तान की मदद की। पुलिस अधिकारी से मिली जानकारी के अनुसार निबाब खान और पाकिस्तान खुफिया एजेंसी की ओर से बनाए गए इंडियन सोशल अकाउंट का इस्तेमाल आईएसआई के प्रचार चलाने के लिए किया गया था। सोशल मीडिया के लिए ओटीपी देने में करता था मददमिली जानकारी के अनुसार पाकिस्तान के लिए एक जासूसी करने वाला निबाब चांदन रोड पर मोबाइल सिम कार्ड और फोटोकॉपी बेचने वाली एक छोटी सी दुकान चलाता है। वहीं इसने इंडियन डोमेन पर सोशल मीडिया खातों को सक्रिय करने के लिए अपने आकाओं को वनटाइम पासवर्ड प्रदान करने में मदद की थी। पाकिस्तान उच्चायोग के अधिकारियों से भी था संपर्क में खान को राजस्थान पुलिस सीआईडी ने रविवार को केंद्रीय एजेंसियों की मदद से आधिकारिक गोपनीयता अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया है। मिली जानकारी के अनुसार खान नई दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग के अधिकारियों के संपर्क में भी था। उसे राजस्थान में भारतीय सेना से संबंधित जानकारी देने के लिए भी आईएसआई की ओर से पारिश्रमिक मिलता था।" 2015 में गया था पाकिस्तानपुलिस ने कहा कि खान 2015 में पाकिस्तान गया था जहां वह आईएसआई एजेंटों के संपर्क में आया था। इसके बाद में उन्हें 15 दिनों के लिए खुफिया जानकारी और 10,000 रुपये की शुरुआती राशि का प्रशिक्षण दिया गया। इसी तरह बाद में उसे हवाला संचालकों के माध्यम से पैसे मिलने लगे और वह उनके निशाने पर आ गया।


from Hindi Samachar: हिंदी समाचार, Samachar in Hindi, आज के ताजा हिंदी समाचार, Aaj Ki Taza Khabar, आज की ताजा खाबर, राज्य समाचार, शहर के समाचार - नवभारत टाइम्स https://ift.tt/3I5BqrI
https://ift.tt/3IcRubh

No comments