Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

Breaking News:

latest

भारत श्री सम्मान

भारत श्री सम्मान
आप के योगदान को देता है , समुचित सम्मान एवं कार्य क्षेत्रों को देता है नया आयाम। "भारत श्री सम्मान" । आज ही आवेदन करें । कॉल एवं व्हाट्सएप : 9354343835.

jharkhand language dispute : झारखंड में भाषा विवाद के बाद हेमंत सरकार का यू-टर्न, कई जिलों में भोजपुरी-मगही की मान्यता समाप्त, देखिए पूरी लिस्ट

रवि सिन्हा, रांची : भाषा विवाद () को लेकर झारखंड की हेमंत सरकार () बैकफुट पर आ गई। झगड़े को शांत करने की कोशिश की गई है। कई जिलों से भोजप...

रवि सिन्हा, रांची : भाषा विवाद () को लेकर झारखंड की हेमंत सरकार () बैकफुट पर आ गई। झगड़े को शांत करने की कोशिश की गई है। कई जिलों से भोजपुरी और मगही भाषा () की मान्यता को समाप्त कर दिया गया। इस संबंध में कार्मिक विभाग ने शुक्रवार देर रात नई अधिसूचना जारी () की है। धनबाद-बोकारो से भोजपुरी-मगही आउट भाषा विवाद को लेकर जारी अधिसूचना में मैट्रिक और इंटर स्तर की प्रतियोगिता परीक्षाओं में जिला स्तरीय पदों के लिए नए सिरे से क्षेत्रीय और जनजातीय भाषाओं की सूची जारी की गई। इसके तहत धनबाद-बोकारो से भोजपुरी और मगही को हटाने की मांग को लेकर शुरू हुए आंदोलन को देखते हुए सरकार ने इन दोनों जिलों से भोजपुरी-मगही को हटा दिया है। वहीं, कई दूसरे जिलों से भी भोजपुरी-मगही को आउट कर दिया गया। भाषा को लेकर जारी की गई नई सूची कार्मिक, प्रशासनिक सुधार और राजभाषा विभाग ने 24 दिसंबर को जारी जिलेवार क्षेत्रीय-जनजातीय भाषाओं की सूची में संशोधन किया है। इसके तहत रांची में अब जनजातीय भाषा में कुड़ुख, खड़िया, मुंडारी, हो, संथाली और क्षेत्रीय भाषा में पंचपरगनिया, उर्दू, कुरमाली, बांग्ला को शामिल किया है। वहीं लोहरदगा में कुड़ुख, असुर, बिरजिया, उर्दू, नागपुरी, गुमला में कुड़ुख, खड़िया, असुर, बरहोरी, बिरजिया, मुंडारी, उर्दू, नागपुरी, सिमडेगा में खड़िया, मुंडारी, कुड़ुख, उर्दु, नागपुरी, पश्चिमी सिंहभूम में हो, भूमित, मुंडारी, कुड़ुख, कुरमाली, उर्दू उड़िया, सरायकेला में संथाली, मुंडारी, भूमिज, हो, पंचपरगनिया, उर्दू, उडिया, बांग्ला और कुरमाली को शामिल किया गया है। नई लिस्ट में आदिवासी भाषाओं को तवज्जो जबकि, लातेहार में कुड़ुख, असुर, बिरजिया, नागपुरी, उर्दू, मगही, पलामू में कुड़ुख, असुर, नागपुरी, मगही, भोजपुरी, गढ़वा में कुड़ुख, नागपुरी, मगही, उर्दू, भोजपुरी, दुमका में संथाली, माल्टो, खोरठा, बांग्ला, उर्दू, अंगिका, जामताड़ा में संथाली, खोरठा, उर्दू, बांग्ला, अंगिका, साहेबगंज में संथाली, माल्टो, खोरठा, उर्दू, बांग्ला, अंगिका, पाकुड़ में संथाली माल्टो, खोरठा, बांग्ला, उर्दू और अंगिका को जगह मिली है। सभी जिलों में उर्दू को शामिल किया गया गोड्डा में संथाली, माल्टो, खोरठा, उर्दू, अंगिका, बांग्ला, हजारीबाग में संथाली, कुड़ुख, बिरहोरी, नागपुरी, कुरमाली, उर्दू, खोरठा, कोडरमा में संथाली, कुरमाली, उर्दू, खोरठा, चतरा में संथाली, कुड़ुख, मुंडारी, बिरहोरी, नागपुरी, उर्दू, खोरठा, मगही, बोकारो में संथाली, हो, मुंडारी, नागपुरी, कुरमाली, खोरठा, उर्दू, बांग्ला, धनबाद में संथाली, नागपुरी, खोरठा, कुरमाली, उर्दू, बांग्ला, गिरिडीह में संथाली खोरठा, उर्दू, कुरमाली, देवघर में संथाली, खोरठा, अंगिका, उर्दू, बांग्ला, रामगढ़ में संथाली, कुड़ुख, बिरहोरी, नागपुरी, उर्दू, कुरमाली, खोरठा और खूंटी जिले में कुड़ुख, खड़िया, मुंडारी, नागपुरी, पंचपरगनिया, उर्दू और कुरमाली भाषा को मान्यता दी गई है।


from Local News, लोकल न्यूज, Hindi Samachar, हिंदी समाचार, state news in hindi, राज्य समाचार , Aaj Ki Taza Khabar, आज की ताजा खाबर - नवभारत टाइम्स https://ift.tt/gTIca54
https://ift.tt/fN7WK6y

No comments