Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

Breaking News:

latest

भारत श्री सम्मान

भारत श्री सम्मान
आप के योगदान को देता है , समुचित सम्मान एवं कार्य क्षेत्रों को देता है नया आयाम। "भारत श्री सम्मान" । आज ही आवेदन करें । कॉल एवं व्हाट्सएप : 9354343835.

'हिंदू-हित हमारी प्राथमिकता होना चाहिए', हैदराबाद में बोले RSS प्रमुख मोहन भागवत

हैदराबाद : आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत (RSS Chief Mohan Bhagwat) बुधवार को हैदराबाद में रामानुजाचार्य सहस्त्राब्दी समारोह में शामिल हुए। उनक...

हैदराबाद : आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत (RSS Chief Mohan Bhagwat) बुधवार को हैदराबाद में रामानुजाचार्य सहस्त्राब्दी समारोह में शामिल हुए। उनके साथ मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) इस कार्यक्रम में शरीक हुए। भागवत के साथ शिवराज ने भी स्वामी रामानुजाचार्य की याद में बनाए गए स्टैच्यू ऑफ इक्वालिटी (Statue of Equality) के दर्शन किए। हैदराबाद में बोलते हुए मोहन भागवत ने कहा कि 'हिंदू हित' यानी 'राष्ट्र हित' हमारी प्राथमिकता होना चाहिए। दूसरे नंबर पर अपनी भाषा, जाति और परिवार का हित होना चाहिए। मोहन भागवत ने कहा, 'कोई भी बात जो आपस में झगड़ा लगाने वाली है, उसमें हम नहीं जाएंगे, कोई भी बात जो हमें डरपोक बनाने वाली है, उसमें भी हम नहीं जाएंगे। हम स्वाभिमान से जिएंगे और सृष्टि का पालन-पोषण करेंगे। इस तरह का जीवन जीने का संकल्प हमारा होना चाहिए।' 'अगर हमें समाप्त होना होता तो 1000 साल में हो जाते'उन्होंने कहा, 'हमारे पास ऐसा सामर्थ्य है कि हमारे सामने खड़े होने की ताकत किसी में नहीं है। हमें समाप्त करने का बहुत प्रयास किया गया।' आरएसएस प्रमुख ने हैदराबाद में कहा, 'अगर हमें समाप्त होना होता तो हम पिछले 1000 साल में हो जाते लेकिन ऐसा नहीं हुआ। जो हमको नष्ट करने पर तुले थे उनके पैर खोखले हो रहे हैं। हम वैसे के वैसे हैं। आज भी भारत में 5000 साल पुराना सनातम धर्म भारत में वैसे का वैसा देखने को मिलता है।' 216 फुट ऊंची 'स्टैच्यू ऑफ इक्‍वालिटी'हैदराबाद के बाहरी इलाके में श्रीरामनगरम, जीवा कैंप्स में स्थित स्टैट्यू ऑफ इक्वालिटी, स्वामी रामानुजाचार्य की प्रतिमा का नाम है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस साल पांच जनवरी को 216 फुट ऊंची ‘स्टैच्यू ऑफ इक्‍वालिटी’ प्रतिमा का अनावरण किया था। यह ‘पंचधातु’ से बनी है जिसमें सोना, चांदी, तांबा, पीतल और जस्ता शामिल हैं। यह दुनिया में बैठी अवस्था में सबसे ऊंची धातु की प्रतिमाओं में से एक है।


from Local News, लोकल न्यूज, Hindi Samachar, हिंदी समाचार, state news in hindi, राज्य समाचार , Aaj Ki Taza Khabar, आज की ताजा खाबर - नवभारत टाइम्स https://ift.tt/S2ech3D
https://ift.tt/j48YOKD

No comments