Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

Breaking News:

latest

भारत श्री सम्मान

भारत श्री सम्मान
आप के योगदान को देता है , समुचित सम्मान एवं कार्य क्षेत्रों को देता है नया आयाम। "भारत श्री सम्मान" । आज ही आवेदन करें । कॉल एवं व्हाट्सएप : 9354343835.

यूक्रेन से राजस्थानी स्टूडेंट समय ने बताया लूटपाट के हालात, खाना-पानी भी नहीं मिल रहा

दौसा: यूक्रेन और रूस के बीच युद्ध के बाद यूक्रेन की हालात काफी भयावह हो चुके हैं और बड़ी संख्या में भारतीय छात्र यूक्रेन में फंसे हुए हैं...

दौसा: यूक्रेन और रूस के बीच युद्ध के बाद यूक्रेन की हालात काफी भयावह हो चुके हैं और बड़ी संख्या में भारतीय छात्र यूक्रेन में फंसे हुए हैं। इन्हीं में से शामिल हैं दौसा जिले के पाटन गांव का रहने वाला समय सिंह मीणा। समय सिंह मीणा के पिता छुट्टन लाल मीणा भारतीय सेना में सैनिक हैं। एक और तो सैनिक छुट्टन लाल मीणा भारत की सीमा पर तैनात हैं वहीं उनका बेटा यूक्रेन में फंसा हुआ है। ऐसे में शुक्रवार को यूक्रेन में फंसे समय सिंह का परिवार कलेक्ट्रेट पहुंचा और जिला कलेक्टर के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक समय सिंह को वापस भारत लाने की मांग पहुंचाई गई। इस दौरान छात्र समय सिंह के दादा, मां, भाई और चाची ने कलेक्ट्रेट में जाकर समय सिंह को भारत वापसी की गुहार लगाई। परिजनों का कहना है कि समय सिंह के पिता आर्मी में तैनात हैं। ऐसे में वे ड्यूटी पर हैं और यूक्रेन में फंसे समय सिंह से दिन में फोन पर बात होती है तो वहां के बयानों हालत सुनकर काफी चिंता हो रही है। यूक्रेन में न खाद्य सामग्रियां है और न पानी मिल पा रहा है। इतना ही नहीं चारों और लूट की स्थिति बनी हुई है और बम की आवाजें सुनाई देती हैं। यूक्रेन में पहुंचे सैनिक छुट्टन लाल मीणा के पुत्र समय सिंह मीणा ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उन्हें वापस भारत लाने की गुहार लगाई साथ ही वहां के हालातों के बारे में भी बताया। इधर, समय सिंह अपने परिजनों से फोन पर बात करता है तो वहां के हालात बताता है तो परिजन रोने लगते हैं इसी बीच धैर्य भी बंधाता है। यूक्रेन से लौटी कनिका भी हैरान दौसा की कनिका स्वामी अपने आप को भाग्यशाली समझती हैं कि वे समय पर कीव यूक्रेन से अपने घर लौट आई। कनिका का कहना है कि जब आई थी तब वहां अफवाहों का दौर गर्म था। कई लोग कह रहे थे कि कुछ नहीं होगा, तो कुछ कह रहे थे हालात खराब होने वाले हैं। कनिका को भी हालात सामान्य नजर आ रहे थे लेकिन परिजनों में दबाव में घर वापसी के बाद यूक्रेन में बिगड़े हालात को देखते हुए कनिका अपने आप को भाग्यशाली समझती है कि समय रहते घर आ गई। नहीं, तो पता नहीं क्या होता लेकिन कनिका के परिवार जन चिंतित थे। इसलिए परिवार ने कनिका को वापस समय रहते घर बुला लिया। कनिका की अपने साथियों से यूक्रेन में बात हो रही है तो हालात भयावह सामने आ रहे हैं। कनिका वर्तमान हालात से हैरान है कि इतने जल्दी ऐसा माहौल बदल गया है।


from Local News, लोकल न्यूज, Hindi Samachar, हिंदी समाचार, state news in hindi, राज्य समाचार , Aaj Ki Taza Khabar, आज की ताजा खाबर - नवभारत टाइम्स https://ift.tt/OycW0AH
https://ift.tt/A6wqD5p

No comments